हमारी अधूरी कहानी : एक राजकुमारी के इश्क़ में अपना पूरा जीवन अकेले ही गुजार दिया अटल बिहारी वाजपेयी ने

lady love of atal bihari vajpaee

क्या कोई किसी से इतना इश्क़ कर सकता है कि केवल किसी की यादों के सहारे ही अपना पूरा जीवन अकेले ही गुजार दे. ऐसे ही एक राजकुमारी के इश्क़ में अपना पूरा जीवन अकेले गुजार दिया अटल बिहारी वाजपेयी ने.

कुछ रिश्ते ऐसे होते हैं जिनका कोई नाम नहीं होता, ऐसा ही कुछ रिश्ता था अटल बिहारी वाजपेई का एक राजकुमारी के साथ,जानी मानी वेबसाइट news18 के मुताबिक अटल जी भी कभी प्यार में थे और जिस लड़की से उन्हे प्यार हुआ था वो राजकुमारी कौल के नाम से जानी जाती थीं.

अपने प्यार का इजहार करने के लिए अटल जी ने एक लव लेटर भी लिखा था जो उन्होने लाइब्रेरी की एक किताब में रखा था किन्तु नियति को कुछ और ही मंजूर था और वह लेटर समय पर राजकुमारी तक ना पहुंच सका और जब वो लेटर राजकुमारी तक पहुंचा तब तक बहुत देर हो चुकी थी.लेटर समय पर राजकुमारी को नहीं मिला तो अटल जी को लगा कि राजकुमारी ने उनके लेटर का जवाब नहीं दिया क्यूँकि वो उनसे विवाह नहीं करना चाहती जिससे उनका दिल टूट गया.

News 18 के अनुसार कुछ समय के पश्चात राजकुमारी को वो ख़त मिला और जिसका जवाब उन्होने हाँ में दिया किन्तु नियति को कुछ और ही मंजूर था. उस समय कौल अपने आप को उच्चतम जाति में मानते थे जबकि अटल जी ब्राह्मण परिवार से थे. इस कारण राजकुमारी के परिवार में इस विवाह को लेकर भारी विरोध हुआ और अंत में कुछ समय बाद राजकुमारी कौल की शादी किसी और से हो गयी और अटल जी की अधूरी कहानी अधूरी ही रह गई और उन्होने कभी विवाह ना करने का निर्णय लिया.

उसके बाद एक ऐसा समय भी आया जब राजकुमारी कौल के पति का देहांत हो गया और उसके पश्चात अटल जी ने राजकुमारी कौल के परिवार को अपना लिया, वर्ष 2014 में राजकुमारी कौल का निधन हो गया था, किसी भी व्यक्ति ने इस रिश्ते को कोई नाम नहीं दिया क्योंकि यह एक भावनात्मक रिश्ता था, एक पवित्र रिश्ता था, जिसका कोई नाम नहीं था, इस पूरी घटना को  कुलदीप नायर के द्वारा news 18 वेबसाइट पर पब्लिश किया गया था |

सोर्स : newstimes

 

Leave a comment

Your email address will not be published.


*


Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial